"Arise, awake, and stop not till the goal is reached."

Marry Christmas Greetings and wishes with History

Published by Ankit S on

Marry Christmas Greetings & History

  • Christmas_2021_images.jpeg
  • Marry_christmas_Pics_greetings
  • Christmas_2021_images_download
  • Christmas_2021_whatsapp_images_download
  • Christmas_2021_whatsapp_pics_download
  • Marry_christmas_2021_whatsapp_images_&_pics_download

Marry Christmas Greetings 2021 Download-

Marry_Christmas_2021_whatsapp_images_&_pics_download

Marry_christmas_2021_whatsapp_images_&_pics_download
Marry_christmas_2021_whatsapp_images_&_pics_download

Marry_Christmas_2021_&_Happy New_Year_whatsapp_images_download

Christmas_2021_whatsapp_pics_download
Christmas_2021_whatsapp_pics_download

Marry Christmas Greetings and wishes-

Christmas_2021_images_download
Christmas_2021_images_download

Marry Christmas Images for wishes-

Marry_christmas_Pics_greetings
Best_Marry_christmas_Pics_and_greetings_download

Best Christmas Images And Photos for WhatsApp download-

Christmas_2021_images.jpeg
Best_Christmas_2021_images.jpeg

History of marry Christmas in Hindi क्रिसमस इतिहास और इससे जुड़ी कुछ और जानकारी-

बाइबल के अनुसार माता मरियम के गर्भ से ईसाई धर्म के ईश्वर ईसा मसीह का जन्म हुआ था। ईसा मसीह के जन्म से पूर्व माता मरियम कुंवारी थी । उनकी सगाई दाऊद के राजवंशी युसूफ नामक व्यक्ति से हुई थी।

 एक दिन मरियम के पास स्वर्गदूत आए और मरियम से कहा_ जल्द ही आपकी एक संतान होगी और उसका नाम यीशु रखना है। राजदूत ने बताया कि जिस बड़ा होकर राजा बनेगा और इसके राज्य की कोई सीमा नहीं होगी। जो इस संसार को कष्टों से मुक्ति का रास्ता दिखाएगा।

माता मरियम में संकोच वश कहा कि अभी मैं अविवाहित हूं ।ऐसे में यह कैसे संभव है? देव दूतों ने कहा यह सब एक चमत्कार के माध्यम से होगा। जल्दी माता मरियम और यूसुफ की शादी हुई। शादी के बाद दोनों बेथहलम नामक स्थान पर जाकर रहने लगे।

यहीं पर एक रात अस्तबल में ईसा मसीह का जन्म हुआ। इसी दिन आकाश में एक तारा बहुत तेजी से चमक रहा था। इससे लोगों को इस बात का एहसास हो गया था कि रूम के शासन से बचाने के लिए उनके मसीहा ने जन्म ले लिया है। ईसा मसीह ने जन्मोत्सव को ही लोग आज क्रिसमस के रूप में मानते हैं। ईसा मसीह ने लोगों को भगवान के करीब रहने का संदेश दिया

हालांकि 25 दिसंबर को क्रिसमस मनाने को लेकर अलग-अलग कथाएं हैं। क्रिसमस से 12 दिन के उत्सव क्रिसमस टायड की शुरुआत होती है । एनो डोमिनी काल की प्रणाली के  आधार पर यीशु का जन्म 7 से 2 इसा पूर्व हुआ था। 25 दिसंबर यीशु मसीह के जन्म को ही ज्ञात वास्तविक तिथि नहीं है ।ऐसा लगता है कि स्थिति को एक रोमन पर्व या मकर संक्रांति के संबंध स्थापित करने के आधार पर चुना गया है।

ईसाई का दावा करने वाले कुछ लोगों ने बाद में जाकर इस दिन को चुना कि इस दिन रूम के गैर ईसाई लोग अजेज सूर्य का जन्मदिन मनाते हैं। और ईसाई चाहते थे कि_ इस दिन यीशु का भी जन्मदिन मनाया जाए।

सर्दियों के मौसम में जब सूरज की गर्मी कम हो जाती है तो गैर ईसाई इस इरादे से पूजा-पाठ करते हैं। कि सूर्य अपनी लंबी यात्रा से लौट आए और दोबारा उन्हें गर्मी और रोशनी दे। उनका मानना था कि 25 दिसंबर को सूर्य लौटना शुरू करता है। शुरू में इस बात को लेकर मतभेद भी था कि क्या ईसा मसीह का जन्मदिन मनाना चाहिए? तब ईसा मसीह के बलिदान और पुनरुत्थान पर ईस्टर ईसाइयों का प्रमुख त्योहार हुआ करता था।

 संताक्लॉज आज इस पर्व की पहचान बन चुका है ।संता क्लॉज की छवि एक गोल मटोल आदमी की है। हमेशा लाल कपड़े पहन कर रखता है ।हर बच्चों के लिए गिफ्ट लेकर अपने स्लेट पर बैठकर आता है।

संताक्लॉस को लेकर कई  पौराणिक कथाएं हैं-

कई लोग मानते हैं कि चौधरी शताब्दी में निकोलस जो कि तुर्की के मीरा नामक शहर में रहते थे। यही असली संता थे। संत निकोलस गरीबों को अक्सर गिफ्ट देते थे। जिससे लोग उनका आदर करते थे।

 चलिए जानते हैं क्रिसमस डे में क्रिसमस ट्री का इतना महत्व क्यों है?

क्रिसमस ट्री जो आज क्रिसमस का एक महत्वपूर्ण अंग बन गया है। जब यीशु का जन्म हुआ था तब सभी देवी देवता उन्हें देखने और उनके माता-पिता को बधाई देने आए थे। उस दिन से आज तक इस मौके पर सदाबहार पेड़ को सजाया जाता है और इसे क्रिसमस ट्री कहा जाता है। भीड़ को सजाने की शुरुआत 10 वीं शताब्दी से जन्म जर्मनी में हुई थी।

 क्रिसमस से जुड़ी कुछ खास जानकारियां:-

  • १. क्रिसमस में लोग कई दिनों पहले से ही केरोल्स गाए जाते हैं और प्रार्थना कि जाती हैं।
  • २. क्रिसमस में यीशु की झांकियां निकाली जाती हैं।
  • ३. 24 दिसंबर तथा 25 दिसंबर के बीच की रात आराधना ,पूजा की जाती है।
  • ४. गिरीजाघरों में मंगलकामना का प्रतीक क्रिसमस ट्री सजाया जाता है।

Thank you for Reading……we always try to best readable content for you.

Read More- तुलसी विवाह 15 Nov 2021( तुलसी जी का विवाह कराए, हवन कराएं, फेरी देकर पूजा करे)

alivetalks.com

Download Happy new Year HD Images, wallpapers , Quotes for wishing…

Marry Christmas More Images Download for whatsapp


Ankit S

Doing best in mechanical engineering along with my blog. Just trying my best that help the people's to grow and update from knowledgeable blogs. Love to write,read,click,travel,eat and spread happiness to all around the world.

2 Comments

Happy New Year 2022: Wishes, images, status, quotes, greetings card, messages, and photos - AliveTalks · 16/11/2021 at 11:08 PM

[…] Happy New Year 2022: Wishes, images, status, quotes, greetings card, messages, and photos Marry Christmas Greetings and wishes with History Tulsi Vivah 2021 Why Children’s Day is celebrated only on 14th nov छठ […]

play blackjack for real · 20/11/2021 at 11:17 PM

[…] casino online slot machine games […]

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *