"Arise, awake, and stop not till the goal is reached."

U Tirot Singh Freedom fighter of Meghalaya and holiday

Published by Ankit S on

U. Tirot Singh Freedom fighter of Meghalaya(तिरोत सिंह ) :


U Tirot Singh : भारत के पूर्व में असम के पास खांसी पहाड़ियों को अंग्रेजों से बचाने वाले 19वीं सदी के योद्धा स्वतंत्रता सेनानी तीरथ सिंह जी की का दिवस पूरे मेघालय में 17 जुलाई को मनाया जाता है।

जिन्होंने अंग्रेजों को लोहे के चने चबाने पर मजबूर कर दिया था। तिरोत सिंह जी ने अंग्रेजों के साथ एक ऐसा ऐतिहासिक विद्रोह किया था जिसे आज पूरा देश 17 जुलाई के सार्वजनिक अवकाश के रूप में मनाती है

U. Tirot Singh Freedom fighter of Meghalaya : तिरोत सिंह जी का क्रांतिकारी इतिहास (Summary)

U. Tirot Singh Freedom fighter of  Meghalaya
U. Tirot Singh Freedom fighter of Meghalaya

स॒न 1857 में होने वाले विरोध को अंग्रेजो के खिलाफ होने वाला प्रथम विरोध माना जाता है, परंतु उससे भी पहले भारत में कई सारे विद्रोह हुए हैं। भारत के उत्तर पूर्वी राज्य में अंग्रेजों के बढ़ते हस्तक्षेप के कारण पूरे देश में अशांति फैली हुई थी।

सन 1826 में एक करार किया गया था जिसकी वजह से ईस्ट इंडिया कंपनी को असम और दूसरे नॉर्थ इंडिया प्रदेशों में प्रवेश मिल गया। ब्रह्मपुत्र की खाड़ी और जयंती की पहाड़ियों पर ब्रिटिश का दबदबा शुरू हो गया था।

उस वक्त नॉर्थ ईस्ट पूरे प्रदेश का गवर्नर जनरल David Scott को नियुक्त किया गया था। दूसरे गवर्नर जनरल की तरह डेविड स्कॉट हुई अपने साम्राज्य का दबदबा बनाने में माहिर था।

कंपनी के विस्तार के लिए डेविड स्कॉट ने गुवाहाटी से सेल्स हेड जो कि बांग्लादेश में है, इन बड़े रास्तों का निर्माण करने के लिए सोचा। लेकिन इन दोनों शहरों के बीच का अंतर 230 किलोमीटर था जो कि काफी लंबा था।


गवर्नर जनरल डेविड स्कॉट के काफी विचार-विमर्श के बाद उसे यह रास्ता सोचा कि क्यों ना खांसी के पहाड़ियों के बीच से रास्ता बनाया जाए तो कम दूरी और कम समय में हम तय कर सकते हैं।


यह रास्ता मेघालय से होते हुए जाता है उस समय मेघालय में खासी जाती का ज्यादा दबदबा था। इसलिए डेविड स्कॉट ने सोचा है कि वहां के युवा नेता तीरथ सिंह जी से विचार-विमर्श करके इस काम को अंजाम दिया जाए।

Meeting Held between Raja Tirot Singh and Governor Scot:-

तीरथ सिंह और प्रमुख अंग्रेज अफसरों के बीच एक सभा रखी गई, जिसे दरबार (Darbar of Raja U.tirot Singh) कहा जाता था। अंग्रेज अफसरों के समस्त आकांक्षी निर्णय से तीरथ सिंह जी को उनके पिछड़े आदिवासी जनजातियों के लिए एक विशेष लाभ दिखने लगा था।


2 दिनों तक चलने वाली सभा में राजा तिरोत सिंह जी के शालीनता और वैभव को देखकर अंग्रेज अफसर उनसे काफी प्रभावित हुए। अंततः महाराजा तीरोत सिंह जी ने काफी विचार-विमर्श कर कर अंग्रेजों को खांसी पहाड़ी के बीच रास्ता बनाने के लिए अनुमति दे दी।

अनुमति के बाद अंग्रेज अफसरों ने रास्ते के निर्माण के लिए काम शुरू कर दिया गया यह निर्माण कार्य 15 महीने तक चला जिसमें राजा तीरोत सिंह के साथ आदिवासी जनजातियां अंग्रेज अफसरों के साथ काफी ज्यादा घुल मिल गए थे।

इसी बीच गांव के एक व्यक्ति ने खांसी जनजातियों के बीच सूत्रों द्वारा पता लगाकर उन्हें बता दिया कि एक बार अंग्रेजों का काम खत्म हो जाने पर अंग्रेज अपने किए हुए वादों को तोड़कर पूरे गांव वालों पर अपनी कड़ी लगाम लगाने वाले हैं, और उनके लिए इस सड़क से गुजरना भी प्रतिबंध करने वाले हैं।

अंग्रेज अफसरों के साथ तीरोत सिंह जी के इतने खुले मिले और गहरी दोस्ती का विश्वासघात लगने से तीरोत सिंह जी का गुस्सा उनके हाथ में ना रहा। उन्होंने अपने लोगों में अंग्रेजो के खिलाफ जोश फूक कर विद्रोह छोड़ दिया।

Battle Begin In Meghalaya : क्रांतिकारियों की छापामार युद्ध नीति

U. Tirot Singh Freedom fighter of  Meghalaya
U. Tirot Singh Freedom fighter of Meghalaya

एक तरफ अंग्रेज अफसर और एक तरफ पूरी जनजाति के साथ तीरोत सिंह। अंग्रेज अफसरों की संख्या ज्यादा थी और जनजातियों की संख्या कम कौन थे लेकिन तीरोत सिंह जी ने हौसला को कम नहीं होने दिया और उसी बीच गुरिल्ला नीति (छापामार युद्ध नीति) का उपयोग करके अंग्रेजों पर हमला बोल दिया।

जिससे कम संख्या वाले योद्धा अंग्रेजों पर पूर्ण रूप से भारी पड़ गए जिससे दो अंग्रेज मारे गए और डेविड स्कॉट वहां से भाग निकला।
(गुरिल्ला नीति उसे कहते हैं जब विरोधी सोया हुआ हो या युद्ध के लिए तैयार ना हो।)

उन क्रांतिकारियों को दबाने के लिए डेविड स्कॉट ने बड़ी अंग्रेज सेना का धावा बोल दिया,लेकिन फिर से तेरा सिंह जी और उनके क्रांतिकारियों की गूरिल्ला नीति अंग्रेजों पर भारी पड़ी। लगातार 4 सालों तक युद्ध चलता रहा।

लेकिन आदिवासी जनजातियों के पास तीर कमान और ढाल जैसे हथियार थे लेकिन अंग्रेजों का पास बड़ी मात्रा में तोप, गोल जैसे भयावह हथियार थे।

जिससे अंग्रेज स्थानीय लोगों पर भारी पड़ने लगे। जिससे जनजातियों के हौसले टूटने लगे और वह आत्मसमर्पण करने लगे, परंतु तीरथ सिंह जी ने हार नहीं मानी।


एक बार अंग्रेजों  की गोली लगने के बाद भी हुआ वहां से भागने में सफल रहे और वहां की खासी की पहाड़ियों में छुप छुप कर रहने लगे, लेकिन एक दिन तिरोत सिंह जी की ही टुकड़ी में से एक आदमी ने गद्दारी करके अंग्रेजों को उनके छुपे हुए ने की खबर दे दी।

चंद सोने के टुकड़ों के लिए उस व्यक्ति ने तीरोत सिंह जैसे महान योद्धा की बलि चढ़ा दी, जिन्होंने अपने ही प्रदेश के हित के लिए इतने बड़े से बड़े कष्ट उठाकर अंतिम सांस तक लड़ाई की।

देश के गद्दारों ने उस वक्त भी देशद्रोह किया था और आज भी माहौल वही है। 9 जनवरी 1833 को इस लड़ाई का दुखद अंत हो गया।तत्पश्चात तीरथ सिंह जी को ढाका भेज दिया गया और वहां उन्हें कैद कर लिया गया।


आज भी उनकी मृत्यु का कारण स्पष्ट नहीं है यहां पर दो मत चल रहे हैं,की या फिर उन्हें अंग्रेजों द्वारा जहर दे दिया गया या एक अंग्रेज प्रोफेसर ने अपनी बुक में लिखा था की तीरोत सिंह जी ने अपने आखिरी दिनों में जहां रहते थे वहां भी नेता और एक राजा की तरह रहते थे।

U Tirot Singh Freedom fighter of Meghalaya : 17 जुलाई का दिन हमेशा रहेगा खास-

इन सभी घटना से स्पष्ट है कि तीरोत सिंह जी जिए भी एक राजा की तरह और मरे भी एक राजा की तरह। अंततः 17 जुलाई 1935 में उनका निधन हो गया।

मेघालय राज्य में 17 जुलाई को तीरथ सिंह जी का दिन मनाया जाता है। मेघालय सरकार द्वारा तीरथ सिंह जी की प्रतिमा का उद्घाटन शिलांग में किया गया है और हर साल सरकार द्वारा उन्हें श्रद्धांजलि भी दी जाती है।


सन 1988 में तिरोत सिंह जी की स्टांप भी बनाई गई थी। स्थानीय लोगों के हृदय में तिरोत सिंह जी ने आज भी अपनी जगह बनाए हुए हैं।

Visiting Place Of Meghalaya : पर्यटन के लिए है खास

उस समय डेबिड स्कॉट  द्वारा जो रास्ता बनाया गया था वह आज भी है परंतु वह बहुत से हिस्सों में विकसित हो चुका है।आज भी वह गुफा, वह पहाड़िया पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बनी हुई है‌ और स्थानीय लोगों के लिए गर्व का प्रत्येक बनी हुई है।

Conclusion (निष्कर्ष) :-


कितने शर्म की बात है कि आज का युवा वर्ग और अन्य प्रदेशों में इस महान योद्धा तीरथ सिंह जी का हम नाम भी नहीं जानते हैं।

यह देश का एक दुर्भाग्य है क्योंकि फिल्म सितारों के बारे में तो हमें सब कुछ पता होता है लेकिन जो हमारे देश के निर्णायक है जो हमारे देश के रक्षक रहे।

आज उनके बारे में हम एक शब्द भी नहीं जानते हैं। परंतु यह सिलसिला बदलेगा इतिहास के पन्नों से सभी महानायक हो की पहचान अलाइव टैक्स के ब्लॉग द्वारा हम जारी रखेंगे।

जय हिंद।

U Tirot Singh Freedom fighter of Meghalaya

Know More : About U. Tirot Singh and History of Meghalaya

Read More : 10 Daily Habits Help Your Physical and Mental Health


Ankit S

Doing best in mechanical engineering along with my blog. Just trying my best that help the people's to grow and update from knowledgeable blogs. Love to write,read,click,travel,eat and spread happiness to all around the world.

34 Comments

sites.google.com · 24/06/2021 at 10:00 AM

It’s the best time to make some plans for the future and it is time to be happy.
I have read this post and if I could I desire to suggest
you few interesting things or advice. Perhaps you can write next articles referring to this article.
I desire to read even more things about it!

CharlesIsolf · 09/07/2021 at 9:34 PM

de mrllo audio book Emission Le Tube Canal Plus Gratuitement alamat e qayamat k barey main anhazrat pdf book

Theatre Casino Sanary · 12/07/2021 at 6:43 AM

Online Casino Free Chip Sign Up Bonus Pere Noel Geant Casino Torcy 71210 E Simple Jackpot X1000

Msi Z370 Probleme Memoire Slot A2 · 17/07/2021 at 3:46 AM

Bordeaux Casino Tournoi Poker Housse Table Repasser G Ant Casino Game Preferences By Countries Casino

Führerscheinfabrik erfahrungen · 30/07/2021 at 9:32 PM

965478 388845Perfectly written subject material , thanks for selective data . 668129

gymwear clothing · 30/07/2021 at 9:42 PM

167687 101126Outstanding post, I conceive individuals really should larn a lot from this weblog its very user friendly . 704420

corner floor lamp led · 08/08/2021 at 10:13 PM

Thanks for another great article. The place else may just anybody get that kind of info in such a perfect means of writing?
I’ve a presentation subsequent week, and I’m at the look for such
info.

Redlott · 01/09/2021 at 11:00 AM

discreet cialis meds

ivermectin cost · 01/09/2021 at 2:51 PM

Purchase Generic Clobetasol Real No Prescription Next Day Delivery

เพิ่มขนาด · 02/11/2021 at 5:09 AM

853643 804157Great weblog right here! Also your website a lot up very fast! 651911

ivermectin amazon · 02/11/2021 at 9:20 AM

Keflex Allergy

loyanty · 02/11/2021 at 2:01 PM

Cialis

Ropsapomi · 03/11/2021 at 3:04 AM

buying cialis online reviews

goteorb · 05/11/2021 at 3:35 AM

propecia viagra combined

cialis no prescription · 05/11/2021 at 10:33 AM

Priligy Walgreens

Grookypap · 05/11/2021 at 12:59 PM

canadian pharmacy viagra online

Propecia · 05/11/2021 at 4:59 PM

Cialis Tempi Di Effetto

Elosymn · 06/11/2021 at 2:01 AM

buy priligy 30mg

order lasix online · 07/11/2021 at 2:25 PM

cialis mail order

cialis online reviews · 08/11/2021 at 1:47 AM

Generic Fluoxetine Bulimia Delivered On Saturday Visa Accepted Tucson

Viagra · 08/11/2021 at 3:32 PM

Buy Xenical Online Us Pharmacy

bandar mejaqq · 08/11/2021 at 3:37 PM

876822 318885There is evidently a great deal to know about this. I consider you produced certain nice points in features also. 547518

female use viagra · 09/11/2021 at 5:45 PM

Vaginal Infections And Amoxicillin

Dyentee · 10/11/2021 at 5:39 AM

lasix renogram

relx · 10/11/2021 at 7:19 AM

126537 542334Great write-up mate, maintain the fantastic work, just shared this with ma friendz 894744

honeemi · 10/11/2021 at 10:33 PM

ivermectin 3mg for humans

walmart priligy · 12/11/2021 at 10:12 AM

Keflex Adult Dosage Weight

prailla · 12/11/2021 at 3:13 PM

over counter prednisone

Prednisone · 15/11/2021 at 10:49 PM

Zithromax 1000 Mg Side Effects

sagame · 19/11/2021 at 7:02 AM

749802 890847Wow, incredible weblog format! How lengthy have you been blogging for? you make running a blog glance easy. The full glance of your web site is great, as smartly the content material material! 922526

nem · 24/11/2021 at 10:06 PM

Also on Sunday, Antonio Conte’s first Premier League game in charge of Tottenham ended in a boring 0-0 draw at Everton. Relegation A strong personality with leadership and organisation skills, the Hungarian international could be a great long-term replacement for the ageing Thiago Silva. Szalai is certainly a talented player with loads of potential, someone who can flourish in the years to come. All in all, this is a deal that Chelsea should complete without any second thoughts in January. There were mixed emotions for Kai Havertz as he reflected on his weekend outing at Stamford Bridge. Left-back Ben Chilwell, making just his second league start of the season, fired the visitors ahead on the cusp of half-time, blasting a superb half-volley past David Raya for his third goal in as many games for club and country. Chelsea goalkeeper Edouard Mendy was equally important here, however, making a string of superb saves late in the game to help his side survive the swarming Bees. The best of the lot was a stop with his face to deny Pontus Jansson, though the Senegal international then also crucially tipped over a Christian Norgaard overhead kick from close range to secure the win. http://www.emmawab.com/l/community/profile/jamepulleine691/ The 36-year-old scored 29 times in 2020-21 to win the Capocannoniere having previously also been the top scorer in the Premier League and LaLiga. Since he joined Juve in July 2018, only Robert Lewandowski (103) has scored more goals in all competitions than Ronaldo’s 73 among players in Europe’s top five leagues. “It was important to get a positive result and we did. A defeat would’ve not definitively left us behind Milan, but a big advantage, now it is easier to bridge. It would’ve been a complete transformation at the goalkeeping department. And such radical alternations don’t end up well too often. That being said, the situation is now more straightforward. With Donnarumma potentially joining PSG, Juve will now only be looking to land a keeper, who will be able to play the role of the second-choice shot-stopper for the Italian club.

plaquenil covid · 04/12/2021 at 11:45 AM

Viagra Verschiedene Starken

Udham Singh उधम सिंह, जिन्होंने लंदन जाकर जलियांवाला नरसंहार का लिया बदला - · 29/07/2020 at 11:54 PM

[…] Do you know तिरोत सिंह जी का क्रांतिकारी इतिहास […]

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *